You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

झारखंड में पहाड़िया स्वास्थ्य उप केंद्र पर नागरिक सुझाव के लिए आमंत्रण

पहाड़िया समुदाय के प्रभुत्व वाले क्षेत्रों में पीवीटीजी (PVTG) समुदाय ...

विवरण देखें जानकारी छिपाएँ

पहाड़िया समुदाय के प्रभुत्व वाले क्षेत्रों में पीवीटीजी (PVTG) समुदाय को स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए कल्याण विभाग द्वारा पहाड़िया स्वास्थ्य उप-केंद्र की स्थापना की गई । पहाड़िया जनजाति एवम्‌ स्वास्थ्य सुविधा प्रणाली के लिये स्वास्थ्य केंद्र एक परिधीक एवम प्रथम सम्पर्क बिंदु के रूप में कार्य करती है ।
स्वास्थ्य उप-केंद्र का उद्देश्य काफी हद तक निवारक और प्रचारक है, लेकिन साथ-साथ यह उपचारात्मक देखभाल का एक मूल स्तर भी प्रदान करता है । आदिवासी समुदाय विशेषकर पहाड़िया समुदाय के लिए स्वास्थ्य प्रदान करने के लिए संथालपरगना के चार जिलों में उचित संरचनात्मक इकाइयों के साथ 18 उप केंद्रों और स्वास्थ्य कर्मचारी (एक एएनएम, एक MHW और साप्ताहिक एक डॉक्टर) हैं ।

अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति, अल्पसंख्यक और पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग, झारखंड सरकार द्वारा संचालित इस योजना पर नागरिकों से सुझाव और इनपुट आमंत्रित किए जाते हैं।

सभी टिप्पणियां देखें
हटाएं
10 परिणाम मिला

Prabhu Prasad gupta 5 months 7 घंटे पहले

मै झारखंड का निवासी हूं मै चाहता हूं कि झारखंड के हर समुदाय को सारी सुविधाएं प्राप्त हो चाहे ओ किसी भी समुदाय से हो सबके साथ समानता हो यही हमारा लक्ष्य है ।

GAURISHANKAR KUMAR ARYA 5 months 1 week पहले

मैं बिहार का निवासी हु पर मेरी इच्छा यही रहती है कि मैं देश के जितने भी गरीब निचले जाती के लोग हौ उनको sikhsha दी जाय और उनका इलाज सही रूप से किया जाय क्यो की उनको भी वही उतना हक है जितना अमीरो लोगो को ओर दिया जाता है जो फसिलिटी दी जाती है

Rohan Dokania 5 months 1 week पहले

In order to maintain health following points may be considered:
i) Routine visit of serious area by a medical team 2-3 times a week.
ii) Preliminary knowledge about some common disease should be given.
iii) Availability of transportation in some emergency situations like How to contact to nearest health center.
iv) Distribution of First aid box in that area including some normal medicines.
v) encouraging youth and teen angers of that to participate and take care of their surroundings.